सुरभि जैन

रक्षा वेबसाइट ‘मिलिट्री डायरेक्ट’ ने रविवार को एक अध्ययन रिपोर्ट प्रकाशित की जिसका नाम रखा गया है अंतिम सैन्य शक्ति सूचकांक। इस रिपोर्ट के अनुसार भारत के पास दुनिया की चौथी सबसे मजबूत सेना है। तो वही सैन्य शक्ति के मामले में चीन पहले नंबर पर है। जबकि अमेरिका दूसरे और रूस तीसरे नंबर पर हैं। इस सूचकांक को बनाने के लिए बजट, सैन्य कर्मियों की संख्या, परमाणु संसाधन, औसत वेतन, वर्तमान में सेना के पास रखें उपकरणों सहित कई अन्य पहलुओं को ध्यान में रखा गया है।

अमेरिका करता है अपनी सेना पर सबसे ज्यादा खर्च

अगर सेना पर होने वाले खर्चे की बात की जाए तो इस रिपोर्ट के अनुसार संयुक्त राज्य अमेरिका अपने देश की सेना पर सबसे ज्यादा खर्चा करता है अमेरिका के लिए यह सालाना 53 लाख करोड़ रुपए यानी 732 बिलीयन डॉलर होता है। इस सूचकांक में वैसे तो चीन पहले स्थान पर रहा लेकिन सैनिक खर्च की बात की जाए तो चीन दूसरे स्थान पर आता है। हमारा पड़ोसी देश अपनी सेना पर कुल 18 लाख करोड़ रुपए यानी 261 बिलियन डॉलर सालाना खर्च करता है। हम इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर आते हैं भारत 5.14 लाख करोड़ रुपए यानी 71 बिलीयन डॉलर हर साल देश की तीनों सेनाओं पर खर्च करता है।

किस देश की सेना को मिले कितने अंक

सौ नंबर के इस सूचकांक में चीन 82 नंबर के साथ पहले स्थान पर रहा इसके बाद अमेरिका को 74 अंक मिले तो वही हमारा देश भारत 61 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर रहा। जिसके बाद फ्रांस का नाम आता है इसे 100 में से 58 अंक मिले वहीं ब्रिटेन को 43 अंक मिले जिसके कारण उसे सूचकांक में नौवां स्थान प्राप्त हुआ।

अगर युद्ध हो तो कौन पड़ेगा किस पर भारी

हाल ही में जारी इस रिपोर्ट के अनुसार अगर विश्व भर की सेनाओं के बीच युद्ध हो तो शीर्ष पर खड़ी इन कुछ देशों की सेनाओं में से चीन समुद्र में अमेरिका हवा में और रूस जमीन पर युद्ध करने में सब पर भारी पड़ेगा। चीन की अगर बात की जाए तो वह अपने 202 समुद्री जहाजों की मदद से अन्य देशों को हरा देगा भारत को हराने में भी उसे इतनी ही समुंद्री सैन्य शक्ति की जरूरत पड़ेगी। रूस की सेना किसी जमीनी लड़ाई में 54,866 जंगी वाहनों के साथ उतरी तो वह अन्य देशों को युद्ध में हरा देंगी।

चीन के पास है 18 लाख से ज्यादा सैनिक वहीं भारत के पास 11 लाख 30 हजार सैनिक

भारत और चीन की सैन्य शक्ति की तुलना की जाए तो चीन के पास 18 लाख 58 हजार सैनिक है वही भारत के पास 11 लाख 30 हजार सैनिक है। चीन के पास 11600 तोपें हैं तो वहीं भारत के पास 3930 तोपें हैं। चीन के पास 1150 लड़ाकू विमान है भारत के पास 900 लड़ाकू विमान है वही दोनों देशों के पास एक एक विमान वाहक जहाज है। नौसेना की बात की जाए तो भारत के पास फिलहाल 50 पनडुब्बियां हैं तो वहीं चाइना के पास 58 पनडुब्बियां है।